"NEW ENTRY Up load with foto Online-नई प्रविष्टि फोटो सहित भेजें आन लाइन"/यदि आप अपनी प्रविष्टि पूर्व में भेज चुके हें, और अब तक प्रकाशित नहीं हुई है, तो कृपया अपने मेल बॉक्स को चेक कर ले, यदि कोई कमी आदि होगी तो आपको सूचित किया गया होगा| साईट पर "सर्च /खोज" में प्रत्याशी का नाम लिख कर सर्च कर ले| 7 से 15 दिन में प्रविष्टि प्रकाशित न हो तो कृपया पुन: न भेज फोन {0734-2519707 or 9406860899} पर चर्चा कर लें, अक्सर किसी कारण वश प्रकाशित नहीं की जाती जैसे अधूरी प्रविष्टि, ब्राह्मण न होने पर, आदि

17 जुलाई 2017

Is it Need a printed magazine for Audichya Brahmin's wedding ad?


क्या औदीच्य ब्राह्मण विवाह विज्ञापन के लिए मुद्रित पत्रिका की आवश्यकता है?

प्रिय औदीच्य ब्राह्मण बंधुओं,
जय गोविन्द माधव.
औदीच्य ब्राह्मण वैवाहिकी [http://audichyabrahmin.blogspot.in/] ने सफलता पूर्वक पिछले 4 माह लगभग 100 से अधिक युवक युवतियों के वैवाहिक विज्ञापन प्रकाशन कर चुकी है| इसके विज्ञापन विश्व भर में देखे और पसंद किये जा रहे हैं| तीन माह में ही इसके माध्यम से लगभग 10 से अधिक विवाह निश्चित हो भी चुके हें|
अनुभव में आया है, की हमारे कई बंधू, विशेषकर प्रोड/ बुजुर्ग, और ग्रामीण, अपने पुत्र पुत्रियों के विवाह हेतु, इस साईट के विज्ञापनो का लाभ अभी भी नहीं ले पा रहे है| इसका कारण अभी भी पूर्ण समाज का इंटरनेट से जुडाव नहीं होना है| अधिकांश ऐसे बंधुओं को मुद्रित (छपी हुई) प्रति अधिक सुगम, सुविधाजनक लगती है| 

08 जुलाई 2017

Engagement- सुश्री शिवानी शर्मा एवं जयेश उपाध्याय का वाग्दान संपन्न -

Engagement मंगनी, वाग्दान 
  • 08/07/17 सुश्री शिवानी शर्मा पुत्री श्री जय प्रकाश जी शर्मा निवासी नसरुल्ला गंज जिला सीहोर एवं श्री जयेश उपाध्याय पुत्र श्री जितेन्द्र उपाध्याय निवासी इंदौर का विवाह सम्बन्ध सुनिश्चित हुआ शुभ कामनाएं|

BOU071702, Shreegoud Brahmin Bride- Neha Joshi, H-5' 7", B-87, L.L.B.,L.L.M, , In A Job, Ujjain resident, wants Brahmin groom, All Brahmins acceptable-

BOU071702, श्रीगोड ब्राह्मण युवती- नेहा जोशी, कद-5' 7", जन्म 87,L.L.B.,L.L.M, सेवारत, उज्जैन निवासी, ब्राह्मण युवक चाहिये, सर्व ब्राह्मण स्वीकार्य,

BOU071701, Shreegoud Brahmin Bride, Shweta Joshi, H-5'.6", birth 89, M.B.A. (HR), In A Job, Ujjain resident, All Brahmins acceptable,

BOU071702- श्रीगोड ब्राह्मण युवती,-श्वेता जोशी, कद 5’6”, जन्म 89, M.B.A. (HR), सेवारत, उज्जैन निवासी, सर्व ब्राह्मण स्वीकार्य,

03 जुलाई 2017

GAU071702 Audichya Brahmin Groom- Navneet Upadhyay, H-5' 8", B.E. CSE, B-92, lecturer Govt. Poly.College, from Shujalpur, All Brahmins acceptable,

GAU071702 - सह्स्रोदीच्य ब्राह्मण युवक- नवनीत उपाध्याय, H-5' 8 ", बी. ई सीएसई, जन्म-92, व्याख्याता Poly.College, निवासी शुजालपुर, सभी ब्राह्मण स्वीकार्य है,

GAU071701, Audichya Brahmin Groom, Hitesh Joshi, H-5'5", B.A., In A Job,Birth-88, from Maharashtra, All Brahmins acceptable,

GAU071701, सह्स्रोदीच्य ब्राह्मण युवक - हितेश जोशी H-5'5 ", बीए, सेवारत, जन्म-88, महाराष्ट्र निवासी, सभी ब्राह्मण स्वीकार्य है,

24 जून 2017

BAU061703- Audichya Bride- Ankita vyas, H -5 ' 4 ", Edu- M.sc (c.s),B.ed, Birth-93, In A Job, From-Indore, Only Audichya acceptabl,

BAU061703- सह्स्रोदीच्य ब्राह्मण युवती- अंकिता व्यास, कद- 5’.4”,. शैक्षणिक -M.sc (c.s),B.ed, सेवारत, /जन्म - 93, केवल औदीच्य ब्राह्मण स्वीकार्य

22 जून 2017

GOU061706 Nagar Brahmin Groom - Manas Trivedi, H- 5 ' 09 ", Edu- BE, Private business, inc-7.5 l/anum, birth -1989, All Brahmins acceptable,

GOU061706  -नागर ब्राह्मण युवक- मानस त्रिवेदी,  कद- 5' 09",  शिक्षा- BE(CS), निजी व्यवसाय,  जन्म 1989 , निवासी उज्जैन,  सर्व ब्राह्मण स्वीकार्य

14 जून 2017

RN- GAU061705 Audichya Brahmin Groom- Shailendra Upadhyay, H-5 ' 7 " B.E. CIVIL In A Job, Annual in-240000, Birth- 1992, Only Audichya acceptable-

GAU061705 ब्राह्मण सह्स्रोदीच्य युवक शैलेंद्र उपाध्याय, कद- 5' 7", B.E., सेवारत वार्षिक आय – 240000, जन्म- 1992, केवल औदीच्य स्वीकार्य, 

GAU061704- Audichya Brahmin Groom-Nimitt Pathak H-5 ' 8, Edu- B.B.M., M.B.A , Private business, Birth 1989, Manglik, All Brahmins acceptable Photo Yes

GAU061704- सह्स्रोदीच्य ब्राह्मण युवक- निमित पाठक, कद- 5' 8, शिक्षा, मांगलिक, रोजगार स्थिति निजी व्यवसाय वार्षिक आय जन्म1989 गौत्र, सर्व ब्राह्मण स्वीकार्य-

औदीच्य ब्राह्मण समाज विषयक

matter
matter
"सहस्त्र औदीच्य ब्राह्मणों में वर्ग भेद|
वर्तमान समाज भारत के उत्तर से दक्षिण की सीमाओं से भी बड़ा विश्वव्यापी हो गया है| शायद ही एसा कोई देश होगा जहाँ कोई औदीच्य ब्राह्मण नहीं होगा| परन्तु हमारे कतिपय महानुभाव अभी भी संभा वाद, आदि को केवल वुजुर्गों की ओट लेकर प्रमुखता देते हें, और अन्य को छोटा मानते हें| वर्तमान परिस्थिति में अन्य समाजों की तरह विवाहयोग्य युवकों की संख्या युवतीओं की तुलना में अधिक हो गई है और युवकों का अविवाहित रह जाना देखा जा रहा है| एसी परिस्थिति में समाज की युवतियां अन्य समाज के युवकों से विवाह कर लेतीं हें तब उनके पास कहने कुछ नहीं रहता| एसी अप्रिय स्थिति से बचने यदि सम्भा वाद या वर्ग भेद को सिर पर धारण किये रहना किसी मुर्खता से कम नहीं| गुजरात में हुए मुगुलों के आक्रमण के बाद से समाज अलग अलग टुकड़ी, फिरके, संभा आदि आदि के नाम से अलग अलग प्रान्तों में निवास के लिए पहुँच गया था| जहां जैसी परिस्थिति जैसे राज्याश्रय आदि अनुकूल परिस्थिति मिलीं वहां आर्थिक मजबूती से स्थापित हुआ, प्रतिकूल परिस्थिति में आर्थिक विपन्नता, आदि ने नया वर्ग उत्पन्न किया| मुगुलों के बाद अंग्रेजी शासन और देसी राजाओं के द्वारा वैदिक विद्वानों की अनदेखी ने लगभग सभी की वैदिक विद्वता छीन कर इतना अधिक दरिद्र बना दिया की आज हम छोटी बड़ी सम्भा के औदीच्य, मारू औदीच्य, टोल्किया औदीच्य आदि आदि कई गुटों में बंट कर स्वयं की हानि का कारण बन रहें है| वास्तव में तो एक हजार वर्ष पूर्व सारे ब्राह्मण एक ही हुआ करते थें| बाद में उत्तर भारत के उदीच्या, और दक्षिण भारत के गोंड या द्रविड़ ब्राह्मण कहलाने लगे पर अब पिछले एक हजार साल में हम सब इतने बदल चुके हें की अब हम औदीच्य, कान्यकुब्ज, नार्मदी, नागर, सनाढ्य, सरयुपारीय, आदिगोर, आदि आदि कई ब्राह्मण नामो से जाने जाना पसंद करते हें| यही नहीं हर वर्ग स्वयं को श्रेष्ट अन्य को निकृष्ट समझ विवाह संबध बनाना भी स्वीकार नहीं करता| हम कब सुधरेंगे| वैदिक ज्ञान नष्ट कर दिया गया| पोरोहित्य अधिकार, नेतृत्व अधिकार, वर्चस्व अधिकार, सभी कुछ खो चुके हें, निम्न बोद्धिक वर्ग के रहमों करम पर रह कर जीने को बाध्य कर दिए गए हें| नोकरी, चाटुकारी, जैसे पग चाटने जैसे कार्यों के लिए मजबूर होते जा रहें हें हम कब सुधरेंगे? कब हम एक होंगे? भूल जाएँ सम्भा-वाद भूल जाये क्षेत्र वाद, परशुराम और चाणक्य जैसों को आदर्श मान कर सर्व ब्राह्मण एक झंडे के नीचे एकत्र हो देश के छत्रपति बने| सुधर जाएँ अन्यथा ब्राह्मण शब्द का ही लोप हो जायेगा| "